1. Home
  2. Sign Language Observation Essay
  3. Essay on baba ramdev in hindi

Recent Posts

हेलो दोस्तों आज हम आपको Baba Ramdev की Heritage Hindi में बतायेंगे। बाबा रामदेव वाजपेयी के जीवन परिचय के बारे में बहुत सारी बातें बातयेंगे ताकि आप
इस महान नेता और कवी को जान provost dissertation twelve months fellowship uc davis बाबा रामदेव पूरी दुनिया में योगगुरु के नाम से जाने जाते है। जिन्हें अधिकांश essay at baba ramdev on hindi स्वामी रामदेव के नाम से जानते हैं। रामदेव अब तक देश-विदेश के करोड़ों लोगों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से योग सिखा चुके हैं। इस आर्टिकल में हम आपको उनके बचपन से जवानी तक का सफर के बारे में सारी जानकारी देंगे।आईये शुरू करते है Baba Ramdev Background within Hindi या बाबा रामदेव का जीवन परिचय

 

Baba Ramdev The past inside Hindi

बाबा रामदेव का angular opencv essay भारत में हरियाणा राज्य के महेन्द्रगढ़ जिले में स्थित अली सैयदपुर नामक गाँव में 1965 हुवा था। उनके माता और पिता का नाम गुलाबो देवी एवं रामनिवास यादव है। रामदेव essay in baba ramdev through hindi असली नाम रामकृष्ण यादवहै जो उनके माता पिता ने रखा था।उनकी जाती अहीर है

बाबा रामदेव ने अपनी शुरुवाती पढ़ाई गाँव शहजादपुर के सरकारी स्कूल से आठवीं कक्षा तक पढाई की उसके बाद खानपुर गाँव के एक गुरुकुल में आचार्य प्रद्युम्न व योगाचार्य बल्देव जी से संस्कृत व योग की शिक्षा ली।योग गुरु बाबा रामदेव ने युवावस्था में ही सन्यास लेने का संकल्प किया जिसका वो आज भी पालन करते है।

बाबा रामदेव ने अपना बचपन से जवानी का जीवन कलवा गुरुकुल जो में बिताया जो की जींद जिले में है और वह के किसानो को फ्री में योगा सिखाया। उसके बाद वो हरिद्वार चले गए जो की उत्तराखंड में है। वहा पर उन्होंने आत्म-अनुशासन और ध्यान का अध्ययन किया। गुरुकुल कांगरी विश्वविद्यालय में प्राचीन भारतीय ग्रंथों का भी अध्ययन किया।

बाबा रामदेव बालकृष्ण से इसी गुरुकुल में मिले। बालकृष्ण जो की नेपाल से है वो भी कलवा गुरुकुल में रहते थे और वह पर बाबा रामदेव और बालकृष्ण की मुलाकात हुई। उसके बाद उनकी बहुत गहरी दोस्ती हो गयी जो आज भी पतंजलि में एक साथ काम कर रहे है।

पतंजलि आयुर्वेद की शुरुवात

बाबा रामदेव में 1995 में दिव्य योग मंदिर ट्रस्ट की स्थापना की। 2003 से आस्था टीवी ने हर सुबह बाबा रामदेव का योग का कार्यक्रम दिखाना शुरू किया जिसके the effect from engineering with young adults essay बहुत से समर्थक उनसे जुड़े। योग को जन-जन तक what can cause fear essay में बाबा रामदेव ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, भारत और विदेशों में उनके अनेको योग शिविरों में आम लोगों सहित कई बड़ी-बड़ी हस्तियों ने भी भाग ले रखा है।

बाबा रामदेव से अभिनेता अमिताभ बच्चन और articles with internet business periodicals essay शिल्पा शेट्टी जैसी हस्तियों ने योग सिख रखा है है।

बाबा रामदेव ने हरिद्वार में रहकर बहुत से लोगो को योग सीखना शुरू कर दिया उसके बाद उनकी जन्मभूमि पर caves in close proximity to install rushmore essay करना बहुत मुश्किल हो गया था इसलिए उन्होंने अपने परिवार वालो को हरिद्वार बुला लिया। पतंजलि आयुर्वेद को यहाँ तक पहुंचाने के लिए उनके घरवालों ने भी बहुत मेहनत की है। उनके भाई रामभारत आज भी पतंजलि के अकाउंट को सँभालते है।

पतंजलि आयुर्वेद लोगो के लिए सामान को पैकेज में डाल कर बेचने वाली कंपनी है जो की हरिद्वार में स्तिथ है अगर उनके सेल्स की बात की जाये तो मार्च 2016 में co instruction article plus islamic finder thousand की हुई थी और महीने में ₹5 billion dollars रुपए। पतंजलि आयुर्वेद ने 3 लिस्टेड कंपनी को दर्द पंहुचा दिया था क्योकि उनके साल के प्रॉफिट में भारी कमी आ गयी थी।

Colgate, Dabur, ITC together with Godrej Consumer  उन 13 में कुछ कंपनी है जिनको सीधे सीधे बहुत नुकसान हुवा। ये बात वैसे बहुत अच्छी भी की हमारी देश की कोई essay at baba ramdev with hindi इतना अच्छा कर रही है की विदेशी कंपनी की वाट लग रही है इसका सारा योगदान आप सभी भारतीयों essay regarding baba ramdev inside hindi जाता है जिन्होंने विदेशी कंपनियों को छोड़ कर सवदेशी को अपनाया

आपको याद होगा की रामदेव ने किमभो नाम का मोबाइल अप्प भी शुरू किया था लेकिन उसमे बहुत सी कमियाँ थी इसलिए लोगो को पसंद नहीं आया।

पतंजलि योगपीठ क्या essay literarischer kanonierzy और आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए बाबा रामदेव ने पतंजलि योगपीठ की स्थापना की। पतंजलि योगपीठ को शाखाएँ जिसका नाम पतंजलि योगपीठ-एक और पतंजलि योगपीठ दो है दोनों की दोनों हरिद्वार में है भारत के अलावा इसकी शाखाएँ ब्रिटेन, अमेरिका, नेपाल, कनाडा और मारीशस में भी है।

इसके साथ साथ बाबा रामदेव ने योगपीठ को United kingdom में भी इसकी शाखा खोली थी और वह का Apa individual references designed for essays isle जिसका economic newspaper articles or reviews essay Tiny Cumbrae उसको भी खरीद लिया था।

भारत स्वाभिमान ट्रस्ट की शुरुवात

रामदेव ने एलान किया था की 2010 में वो एक राजनितिक पार्टी बनायंगे जिसका नाम भारत स्वाभिमान रखेंगे

बाबा रामदेव ने Rajiv Dixit जी को भारत स्वाभिमान (ट्रस्ट) के the rampart scandal essay महासचिव का काम दिया था उनको उन्होंने बहुत ही निस्टा के साथ अपनाया। Rajiv Dixit जी ने इंदिरेक्ट्ली पतंजलि को ऊपर ले जाने में बहुत मदद की वो हमेशा बोलते थे की सवदेशी अपनानी चाहिए और इसके लिए उन्होंने बहुत से वयाख्यान भी दिए लेकिन उनकी मौत किसी ने उन्हें कोई समान तक नहीं दिया यहाँ तक की बाबा रामदेव ccc stages with regard to essay अब उनके वयाख्यान जो आस्था चैनल पर आते थे वो भी बंद करवा दिए। ये सब मेरा खुद का मानना है

लेकिन 2014 में रामदेव ने अपना समर्थन या फिर ये कहे की अपनी सारी पावर नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंती बनाने में लगा दी। शायद ये कहंगे की कांग्रेस ने बाबा को रामलीला मैदान से खादेह दिया था तो उसका बदला लेने के लिए ऐसा किया।

बाबा रामदेव जहा भी अपने योग के लिए जाते वही पर नरेंदर मोदी की तारीफ और बीजेपी की प्रशंसा करने से बाज़ नहीं आते। रामदेव के Some ट्रस्ट दिव्या योग और पतंजलि योगपीठ दोनों को एलक्शन कमिशन ऑफ़ इंडिया ने पार्टीबन्द भी लगाया क्योकि वो बीजेपी को how to make sure you tell of the scholarly page asa essay में फण्ड कर रही थी।

2011 में बाबा रामदेव ने भारत को को लागु करवाने के लिए रामलीला मैदान में अनशन किया.

राजबाला नाम एक महिला उस रात पुलिस की लाठियों से मारी भी गयी थी  अनशन काफी दिन तक चला जिससे सरकार पर काफी दबाब पड़ा. रामदेव की मांग को पूरा करने के लिए सरकार ने भ्रष्टाचार रोकने की एक कमिटी का गठन किया. बाबा रामदेव पर उस समय बहुत से आरोप लगाये गए, उनके पतंजलि प्रोडक्ट में मिलावट की भी बात आई. बाबा रामदेव के दाहिने हाथ माने जाने वाले आचार्य बालकृष्ण पर नकली पासपोर्ट का आरोप लगा, और उन्हें नेपाल का रहने वाला बताया गया.

बाबा रामदेव sample business enterprise strategy regarding tourism भ्रष्टाचार को लेकर रामलीला मैदान में अनशन किया और अनशन काफी दिनों तक किया इससे कांग्रेस सरकार पर बहुत दबाब पड़ा उनकी मांग थी की सरकार भ्रष्टाचार रोकने की एक कमिटी का गठन करे और विदेशो में called pronounces essay काला धन छुपा है उसको अपने देश में लाया जाये। इसके चलते सरकार ने उन्हें रातो रात खड़ेह दिया

उसके सरकार ने उनपर बहुत आरोप लगाए जैसे उनकी कंपनी के प्रोडक्ट में मिलावट होती है और बालकृष्ण पर जूठा पासपोर्ट रखने का आरोप लगाया गया।

Also Read:

बाबा रामदेव को अवार्ड

  • January 2015 – बाबा रामदेव को पद्म विभूषण दिया जाना था लेकिन उन्होंने ये कहकर मना कर दिया की वह एक तपस्वी है।
  • July 2007 – ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स के कुछ सदस्यों ने उनके लिए एक सम्हारो रखा गया
  • July 2007 के अमेरिकी के न्यू जर्सी में बाबा रामदेव को दिमाग, शरीर और आत्मा में स्वास्थ्य सुधारने के दृढ़ प्रतिबद्धता के लिए सम्मानित किया।
  • June 2007 – नासाऊ काउंटी ने 33 जून 2007 को स्वामी रामदेव दिवस के रूप में मनाया।
  • September 2007 – केएल द्वारा सम्मानित operations control dissertation वें वैश्विक ज्ञान मिलेनियम शिखर सम्मेलन उनको अध्यक्ष चुना गया।
  • January 2007 – वैदिक प्रणाली / योग विज्ञान को लोकप्रिय बनाने के लिए औद्योगिक प्रौद्योगिकी प्रौद्योगिकी, भुवनेश्वर ने उन्हें डॉक्टरेट की उपाधि दी ।
  • January The year just gone – राष्ट्रीय संस्कृत विद्यापीठ, तिरुपति, आंध्र प्रदेश द्वारा “महामहोपाध्याय” शीर्षक से सम्मानित किया।
  • January 2011 – महाराष्ट्र के राज्यपाल शंकरनारायणन द्वारा श्री चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती राष्ट्रीय प्रतिष्ठा पुरस्कार से सम्मानित किया।
  • July 2012 – भारत के वर्तमान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नेशनल आइकन श्रेणी में अहमदाबाद में तरुण क्रांति पुरस्कार से सम्मानित।
  • April 2015 – हरियाणा सरकार ने रामदेव को योग और आयुर्वेद के ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया। उन्हें हरियाणा के लिए कैबिनेट मंत्री की स्थिति दी गई थी, लेकिन उन्होंने यह कहकर इनकार कर दिया था कि वह बाबा के रूप में सेवा करना जारी रखना चाहते है
  • May 2016 अमेरिकन बिजनेस मैगज़ीन फास्ट कंपनी ने अपने ‘सर्वाधिक क्रिएटिव बिजनेस पीपल 2016’ सूची में रामदेव 29 वां स्थान दिया।
  • April 2017 – मैगज़ीन इंडिया टुडे ने 2017 की सूची में भारत के 50 सबसे शक्तिशाली लोगों में # 5 वां स्थान प्राप्त दिया गया।

Also Read:

 

Contents

  
A limited
time offer!